ब्रेकिंग न्यूज़

भीषण सड़क हादसे में कार सवार यूपी पुलिस के तीन कर्मचारियों सहित 4 लोगों की दर्दनाक मौतग्वालियर - सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेककर गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमनग्वालियर - कमलाराजा अस्पताल में बच्चों की मौत हाईकोर्ट सख्त, पांच दिन में सुधार के आदेशगुरू गोबिंद साहिब की प्रेरणा समाज के हर वर्ग के लिए प्रासंगिक - केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाभारतीय किसान यूनियन की सभी मांगों को मानकर तीनों काले कृषि कानून वापस ले सरकार - दिग्विजय सिंहकिसान संगठनों का दावा, ग्वालियर में बंद सफल रहा, हाथ जोड़कर कराया ग्वालियर बंद, जताया आमजन का आभारग्वालियर - सम्राट मिहिर भोज के संबंध में 4 अक्टूबर तक साक्ष्य व प्रमाण प्रस्तुत किये जा सकेंगेग्वालियर - लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करना हमारा दायित्व है : केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाग्वालियर - केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद ग्वालियर आगमन पर श्री सिंधिया का भव्य स्वागत, केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर सहित प्रदेश के मंत्री भी सम्मलित हुए स्वागत कार्यक्रमों मेंग्वालियर - दो आदतन अपराधी जिला बदर

गौशाला के बाहर लंपी वायरस से ग्रसित गाय

मध्य प्रदेश, GoonjMP Updated : Tuesday, 27 Sep 2022

देवरी गौशाला के बाहर तड़प रही गाय:कर्मचारियों ने अन्दर लेने से किया इंकार, जिले में तीन हजार गायें लंपी का शिकार

मुरैनाएक घंटा पहले

गौशाला के बाहर लंपी वायरस से ग्रसित गाय - Dainik Bhaskar

गौशाला के बाहर लंपी वायरस से ग्रसित गाय

मुरैना की देवरी गौशाला के बाहर लंपी वायरस से ग्रसित गाय तड़प रही है लेकिन गौशाला के कर्मचारियों ने उसे गौशाला के अन्दर लेने से साफ इंकार कर दिया। जब गौसेवकों ने कहा कि इसका इलाज ही कर दो, तो वे बोले कि हमें इससे कोई मतलब नहीं है, हम इलाज क्यों करें। बता दें, कि मुरैना में लंपी वायरस से ग्रसित गायों की हालत दिनों-दिन खराब होती जा रही है। अकेले मुरैना शहर में ही 400 गायें लंपी से ग्रसित घूम रही हैं। पूरे जिले का आंकड़ा तीन हजार के लगभग है। कई गायें व सांड़ मार चुके हैं, बावजूद जिला व निगम प्रशासन इस पर नियंत्रण नहीं कर पा रहा है। हद तो तब हो गई जब नगर निगम की देवरी स्थित गौशाला के बाहर लंपी वायरस से ग्रसित एक गाय पड़ी कराह रही है, गौसेवक वहां पहुंचे और उन्होंने गौशाला के सुरक्षा गार्ड से कहा कि इसे अन्दर कर लो तथा इसका इलाज करवा दो, तो उसने अन्दर करने से साफ इंकार कर दिया। जब उन्होंने कहा कि उसे कुछ भूसा ही खाने को दे दो जिससे यह जिंदा बनी रहे लेकिन उन्होंने भूसा देने से भी इंकार कर दिया। बता दें, कि निगम की इस गौशाला का एक माह का खर्चा 25 लाख रुपए आता है।गौशाला में 9 कर्मचारी तैनात
नगर निगम की देवरी गौशाला में मौजूदा हालत में 9 कर्मचारी तैनात हैं। इन कर्मचारियों को हर माह 10-10 हजार रुपए वेतन दिया जाता है। इसके बावजूद यहां गायों की हालत बद से बदतर है। यहां मौजूद गायें भूसे के लिए तरस रही हैं।