ब्रेकिंग न्यूज़

भीषण सड़क हादसे में कार सवार यूपी पुलिस के तीन कर्मचारियों सहित 4 लोगों की दर्दनाक मौतग्वालियर - सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेककर गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमनग्वालियर - कमलाराजा अस्पताल में बच्चों की मौत हाईकोर्ट सख्त, पांच दिन में सुधार के आदेशगुरू गोबिंद साहिब की प्रेरणा समाज के हर वर्ग के लिए प्रासंगिक - केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाभारतीय किसान यूनियन की सभी मांगों को मानकर तीनों काले कृषि कानून वापस ले सरकार - दिग्विजय सिंहकिसान संगठनों का दावा, ग्वालियर में बंद सफल रहा, हाथ जोड़कर कराया ग्वालियर बंद, जताया आमजन का आभारग्वालियर - सम्राट मिहिर भोज के संबंध में 4 अक्टूबर तक साक्ष्य व प्रमाण प्रस्तुत किये जा सकेंगेग्वालियर - लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करना हमारा दायित्व है : केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाग्वालियर - केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद ग्वालियर आगमन पर श्री सिंधिया का भव्य स्वागत, केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर सहित प्रदेश के मंत्री भी सम्मलित हुए स्वागत कार्यक्रमों मेंग्वालियर - दो आदतन अपराधी जिला बदर

भोपाल में डेंगू का बढ़ता ग्राफ:

मध्य प्रदेश, GoonjMP Updated : Monday, 17 Oct 2022

राजधानी में डेंगू का प्रकोप बढ़ रहा है। आंकड़े भी यही हकीकत बयां कर रहे हैं। जनवरी से अगस्त तक डेंगू के मरीजों की संख्या कुल 95 थी। वहीं, सितंबर से 14 अक्टूबर तक 130 डेंगू मरीज मिले। इनमें से 32 मरीज ऐसे हैं जो डेंगू पॉजिटिव हैं, लेकिन जिला मलेरिया कार्यालय के अमले को न तो उनके पते मिल रहे हैं और न ही उनके मोबाइल पर कॉल लग रहा है। ऐसे में इनके घरों और आसपास के घरों में डेंगू लार्वा सर्वे नहीं हो पाया है।दरअसल, जब भी डेंगू का कोई नया मरीज मिलता है तो उसके घर के साथ ही साथ आसपास के 50 घरों में डेंगू लार्वा सर्वे किया जाता है। जिला मलेरिया कार्यालय की टीमें इस क्षेत्र में सक्रिय होकर यहां लोगों को जागरूक करने के लिए कार्यक्रम भी करती हैं। जिन घरों में डेंगू लार्वा मिलता है उसे नष्ट करने की कार्रवाई की जाती है। ताकि, डेंगू फैलाने वाले मच्छर पनप ही न पाएं। लेकिन, मरीज नहीं मिलने के कारण उनके घरों के आसपास डेंगू लार्वा सर्वे नहीं हो पा रहा है।

पता गलत होने की यह हैं तीन खास वजह

  • पहली- अस्पताल में मरीज आधार कार्ड, राशन कार्ड समेत कोई अन्य दस्तावेज लगाता है तो वह वर्षों पुराना होता है। उसमें पुराना पता ही दर्ज होता है, जबकि व्यक्ति कहीं और रहने लगा।
  • दूसरी- कुछ लोग जानकर पता और मोबाइल नंबर गलत दर्ज कराते हैं ताकि रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर टीमें सर्वे के लिए उनके घर ना पहुंचे। ताकि आसपास के लोगों को पता न चले।
  • तीसरी- दूसरे शहरों से इलाज के लिए आने वाले लोग शहर में रिश्तेदारों के घर रुकते हैं, वहीं का पता दर्ज करा देते हैं। टीम जब दिए पते पर जाती है तो रिश्तेदार जानकारी छुपा लेते हैं।