ब्रेकिंग न्यूज़

भीषण सड़क हादसे में कार सवार यूपी पुलिस के तीन कर्मचारियों सहित 4 लोगों की दर्दनाक मौतग्वालियर - सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेककर गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमनग्वालियर - कमलाराजा अस्पताल में बच्चों की मौत हाईकोर्ट सख्त, पांच दिन में सुधार के आदेशगुरू गोबिंद साहिब की प्रेरणा समाज के हर वर्ग के लिए प्रासंगिक - केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाभारतीय किसान यूनियन की सभी मांगों को मानकर तीनों काले कृषि कानून वापस ले सरकार - दिग्विजय सिंहकिसान संगठनों का दावा, ग्वालियर में बंद सफल रहा, हाथ जोड़कर कराया ग्वालियर बंद, जताया आमजन का आभारग्वालियर - सम्राट मिहिर भोज के संबंध में 4 अक्टूबर तक साक्ष्य व प्रमाण प्रस्तुत किये जा सकेंगेग्वालियर - लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करना हमारा दायित्व है : केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाग्वालियर - केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद ग्वालियर आगमन पर श्री सिंधिया का भव्य स्वागत, केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर सहित प्रदेश के मंत्री भी सम्मलित हुए स्वागत कार्यक्रमों मेंग्वालियर - दो आदतन अपराधी जिला बदर

निजीकरण के विरोध में 15 जुलाई से आंदोलन करेंगे एमपी के बिजली कर्मी

मध्य प्रदेश, GoonjMP Updated : Monday, 05 Jul 2021

निजीकरण के विरोध में 15 जुलाई से आंदोलन करेंगे एमपी के बिजली कर्मी
             GOONJ M.P News
इंदौर, मध्य प्रदेश 15 जुलाई के बाद अंधेरे में डूब सकता है, बिजली कर्मचारियों ने सरकार को अल्टीमेटम दे दिया है कि वे बिजली विभाग को निजी हाथों में देने का विरोध कर रहे हैं। इंदौर में रविवार को यूनाइटेड फोरम फॉर पावर एम्पलाइज एंड इंजीनियर्स एसोसिएशन की बैठक हुई, इसमें आंदोलन की रणनीति तय की गई। बैठक में शामिल होने भोपाल से प्रांत संयोजक वीकेएस परिहार भी पहुचें। प्रांत संयोजक वीकेएस परिहार ने कहा कि केंद्र सरकार बिजली का निजीकरण करने जा रही है, इसके तहत मध्य प्रदेश की बिजली कंपनियों को 1 रुपए लीज पर दिया जाएगा, इसके लिए राज्य सरकार ने ड्राफ्ट भी तैयार कर लिया है। यदि सब कुछ ठीक रहा तो इस साल के अंत तक बिजली सप्लाई का जिम्मा प्राइवेट सेक्टर के पास चला जाएगा। इस क्रम में सबसे पहले सबसे ज्यादा मुनाफे वाली इंदौर की पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी को लीज पर दिया जाएगा। परिहार ने कहा कि बिजली कंपनियों के निजी हाथों में जाने से किसानों और गरीब वर्ग को बिजली महंगी मिलेगी, जैसे पेट्रोल और डीजल के दाम कंपनिया रोज बढ़ा रहीं है, इसी तरह के हालात बिजली विभाग में हो जाएंगे। बिजली कंपनियां रोज नया टैरिफ घोषित करेंगी और लोगों को मजबूरी में महंगी बिजली खरीदनी पड़ेगी। प्राइवेटाइजेशन के बाद बिजली बिल जमा करने में देरी पर भी भारी सरचार्ज भरना पड़ेगा और कानूनी कार्यवाही का भी डर रहेगा। वैसा ही जैसा लोन मुहैया कराने वाली एजेंसियां और सूदखोर भुगतान में देरी पर करते हैं। इसलिए बिजली विभाग के प्राइवेटाइजेशन को कर्मचारी विरोध कर रहे हैं।