ब्रेकिंग न्यूज़

भीषण सड़क हादसे में कार सवार यूपी पुलिस के तीन कर्मचारियों सहित 4 लोगों की दर्दनाक मौतग्वालियर - सीएम शिवराज सिंह चौहान ने गुरुद्वारा दाता बंदी छोड़ पर मत्था टेककर गुरु हरगोबिंद साहिब को किया नमनग्वालियर - कमलाराजा अस्पताल में बच्चों की मौत हाईकोर्ट सख्त, पांच दिन में सुधार के आदेशगुरू गोबिंद साहिब की प्रेरणा समाज के हर वर्ग के लिए प्रासंगिक - केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाभारतीय किसान यूनियन की सभी मांगों को मानकर तीनों काले कृषि कानून वापस ले सरकार - दिग्विजय सिंहकिसान संगठनों का दावा, ग्वालियर में बंद सफल रहा, हाथ जोड़कर कराया ग्वालियर बंद, जताया आमजन का आभारग्वालियर - सम्राट मिहिर भोज के संबंध में 4 अक्टूबर तक साक्ष्य व प्रमाण प्रस्तुत किये जा सकेंगेग्वालियर - लोकतंत्र सेनानियों का सम्मान करना हमारा दायित्व है : केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधियाग्वालियर - केन्द्रीय मंत्री बनने के बाद ग्वालियर आगमन पर श्री सिंधिया का भव्य स्वागत, केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर सहित प्रदेश के मंत्री भी सम्मलित हुए स्वागत कार्यक्रमों मेंग्वालियर - दो आदतन अपराधी जिला बदर

घोटालाः ईओडब्ल्यू ने जल संसाधन विभाग के इंजीनियर को आज बुलाया है

मध्य प्रदेश, GoonjMP Updated : Thursday, 08 Jul 2021

घोटालाः ईओडब्ल्यू ने जल संसाधन विभाग के इंजीनियर को आज बुलाया है
GOONJ M.P News
भोपाल. मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार के दौरान जल संसाधन विभाग में हुए महा घोटाले की जांच अब ईओडब्ल्यू ने तेज कर दी है। विभाग के इंजीनियर्स और अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिक जांच दर्ज करने के बाद अब पुलिस एफआईआर दर्ज करने की तरफ बढ़ रही है।ईओडब्ल्यू ने विभाग के ईएनसी राजीव कुमार सुकलीकर को नोटिस भेजकर आज यानी 8 जुलाई को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया है। इसके बाद इस मामले में ईओडब्ल्यू में एफआईआर दर्ज हो सकेगी। 3 हजार 333 करोड़ रुपये के टेंडर में नियम विरुद्ध निजी कंपनियों को 850 करोड़ का एडवांस भुगतान कर दिया गया था। जल संसाधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एसएन मिश्रा ने इस घोटाले का खुलासा किया था। उनके अनुसार अगस्त 2018 से फरवरी 2019 के बीच सिंचाई प्रोजेक्ट के आधार पर बांध और हाई प्रेशर पाइप नहर बनाने के लिए 3333 करोड़ रुपये के सात टेंडर्स को मंजूरी दी गयी थी। टर्न के आधार पर मंजूर टेंडर्स मुख्य रूप से बांध निर्माण और जलाशय से पानी की आपूर्ति के काम के लिए थे। इसके लिए निर्धारित प्रेशर पंप हाउस, प्रेशराइज्ड पाइप लाइन के साथ-साथ नियंत्रण उपकरण लगाकर पानी सप्लाई की जाना थी।